Comment on अहंकार | Short Moral Stories in Hindi by Yuvraj Dodiya


Ha ha ha… बिलकुल सही कहा आपने, जब इंसान पे अहंकार भारी हो जाता हैं, तो अहंकार को छोड़कर उनके दिमाग में कुछ और नहीं बचता। उन्हें न तो भले की समझ रहती है और न ही बुरे की।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *