Tere aane se ummed ho gayi – shayari ki dukan ( India’s largest collection of good poetries)


Tere aane se ummed ho gayi

जिस मोहब्बत के साये में
आज जी रहा हूँ
खुशनसीब हूँ
हर पल पानी सा बह रहा हूँ
खुद को जान रहा हूँ
इस जहां में आने की वजह
तलाश करता था
जाने किस तरह खुद को
संभाला करता था
तेरे आने से उम्मीद हो गयी
मेरी धड़कन भी तेरी मुरीद हो गयी

Tere aane se ummed ho gayi

This post was last modified on October 14, 2017 2:34 pm



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *